उष्ट्र विकास योजना राजस्थान आवेदन, पात्रता, लाभ

उष्ट्र विकास योजना राजस्थान आवेदन, पात्रता, लाभ – Ushtra Vikas Yojana Rajasthan – ऊँटनी के ब्याने पर मिलेगें 10 हजार रूपये

प्यारे दोस्तों अगर आप भी राजस्थान में रहते हैं तो आपको पता ही होगा कि राजस्थान वासियों के लिए ऊँट (Camel) की क्या विशेषता हैं और हां एक बात और मैं आपको बताना चाहूंगा शायद आप जानते हो या नहीं जानते हैं राजस्थान का राज्य पशु ऊँट ही हैं और इसे राजस्थान का जहाज भी कहा जाता हैं क्योंकि यह रेगिस्तान में चाहे जैसे दौड सकता हैं। तो चलिए यह तो बात हुई एक जानकारी की लेकिन क्या आपको पता हैं कि आजकल ऊँटों की जनसंख्या में तेजी से कमी आ रही हैं अब लोगों ने ऊँटों काे पालना बन्द कर दिया हैं या फिर अन्य किसी कारण से तो ऐसे में राजस्थान का जहाज और राज्य पशु कहलाने वाला ऊँटों को पालने वालों के लिए एक खुशखबरी हैं।

सरकार ने ऊँटों के लिए एक सरकारी योजना को चालू किया हैं जिसका नाम हैं उष्ट्र विकास योजना राजस्थान (Ushtra Vikas Yojana Rajasthan) इस स्कीम के तहत जो कोई भी इन्हें पालता हैं सरकार द्वारा उनकी मदद की जाती हैं जिसमें आर्थिक सहायता के तौर पर 10000 रूपये तक की सहायता की जाती हैं तो जानेगें कि यह लाभ कौनसे ऊँटो को पालने के लिए दिया जायेगा, इसके लिए क्या पात्रता रखी गई हैं और इसका आवेदन किस प्रकार करना होगा तो आर्टिकल को लॉस्ट तक पढ़ते रहिऐ।

Highlights of Ushtra Vikas Yojana Rajasthan

योजना का नामउष्ट्र विकास योजना
कौनसे राज्य के लिए हैंराजस्थान
शुरूआत कब हुई2 अक्टूबर 2016
लाभ3000 रूपये से 10000 रूपये तक
लाभार्थीऊँट पालने वाले सभी व्यक्ति चाहे किसी भी वर्ग से हो
उद्देश्यऊँटों की नस्ल को बचाना
विभाग का नामपशुपालन विभाग राजस्थान
ऑफिशियल वेबसाइटanimalhusbandry.rajasthan.gov.in
उष्ट्र विकास योजना कर लाभ कैसे

राजस्थान उष्ट्र विकास योजना

प्यारे दोस्तों राजस्थान सरकार ने ऊँट/उष्ट्र को राज्य पशु घोषित किया हुआ हैं और राज्य पशु होने के बाद इनकी संख्या में कमी आती जा रही हैं। हमारे राजस्थान की आन-बान-शान कहे जाने वाले पशु यानि की ऊँटो पालने के लिए सरकार द्वारा बढ़ावा दिया जा रहा हैं इसके लिए सरकार द्वारा बहुत से कदम भी उठाये जा रहे हैं इसके लिए राजस्थान सरकार ने एक उष्ट्र विकास नाम की योजना चालू की हुई हैं। इस स्कीम के तहत ऊँटनी जब बच्चें को जन्म देती हैं तो उसके जन्म के बाद सरकार द्वारा 10 हजार रूपये तक का लाभ दिया जाता हैं जिससे बच्चें (टोडिया) की देखभाल करने में जो खर्चा आये उसमें उसके मालिक को ज्यादा परेशानियों का सामना ना करना पड़े। सरकार द्वारा जो यह लाभ दिया जा रहा हैं उसमें तीन किस्तें बनाई गई हैं जो कि आपको समय-समय पर मिलती रहेगी।

राजस्थान उष्ट्र विकास योजना का उद्देश्य

प्यारे दोस्तों इस स्कीम की शुरूआत 2 अक्टूबर 2016 की गई थी। जब से ही इस स्कीम का उद्देश्य ऊँटों के वंश को आगे बढ़ाना हैं क्योंकि तेजी से ऊँटों से संख्या में कमी आ रही हैं इसके लिए सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार के कदम भी उठाये जा रहे हैं ताकि इनकी संख्या में वापस तेजी ला सके। यह स्कीम सभी प्रकार के ऊँटों की नस्ल के बच्चों के लिए हैं। इसका एक और उद्देश्य भी हम बोल सकते हैं जो ऊँटों की संख्या में कमी आई हैं उसकी संख्या को रोकने के लिए ऊँट प्रजनन को बढ़ावा दिया जायेगा।

उष्ट्र विकास योजना हेतु पात्रता

  • यह स्कीम केवल राजस्थान के निवासियों द्वारा जाने वाले ऊँटों के मालिकों के लिए ही हैं।
  • मादा ऊँट यानि ऊँटनी के बच्चें के लिए ही इस स्कीम का लाभ प्रदान किया जा रहा हैं।
  • ऊँट पालने वाले मालिक द्वारा ऊँटनी के गर्भधारण एवं गर्भकाल की सूचना अपने आस-पास वाले पशु चिकित्सालय में देनी होगी।
  • जो ऊँटनी ब्याने वाली हैं उसका पशु चिकित्सालय में पंजीकरण करवाना जरूरी हैं या फिर पहले से ही पंजीकृत होनी चाहिए।
  • ऊँटनी के ब्याने पर मालिक (ऊँट पालक) को एक महिने के भीतर-भीतर ही पशुओं के अस्पताल में आवेदन करना होगा।
  • सभी ऊँट व ऊँटनियों के मालिकों को भामाशाह पशु बीमा योजना के तहत बीमा करवाना जरूरी हैं।

Benefits of Ushtra Vikas Yojana Rajasthan (देय लाभ)

प्यारे दोस्तों अगर आपके पास भी ऊँट या ऊँटनी हैं और वो प्रैग्नेन्ट हैं यानि वो अब ब्याने वाली हैं तो या फिर उसके बच्चा हो चुका हैं बच्चा चाहे ऊँट हो या ऊँटनी यानि चाहे नर ऊँट हो या मादा ऊँटनी हैं सभी के लिए सरकार द्वारा लाभ दिया जायेगा। आपको स्कीम के तहत पूरे 10 हजार रूपये का लाभ दिया जायेगा जिसमें तीन किस्ते बनाई गई हैं जो कि समय-समय पर दी जायेगी।

  • पहली किस्त – बच्चे (टोडिया) के महिने के होने पर 3 हजार रूपये की आर्थिक सहायता जायेगी।
  • दूसरी किस्त – जब टोडिया 9 महिने का हो जायेगा तब वापस 3 हजार रूपये दिये जायेगें।
  • तीसरी किस्त – जब टोडिया यानि ऊँटनी का बच्चा 18 महिने का हो जायेगा तो 4 हजार रूपये दिये जायेगें।

Documents of Ushtra Vikas Yojana Rajasthan

अगर आप भी इस स्कीम के तहत लाभ लेना चाहते हैं तो आपको दिये गये दस्तावेजों की जरूरत पड़ेगी जिसे आपको आवेदन करते समय लगाना होगा।

  • पशु चिकित्सालय द्वारा जारी किया गया सूचना का प्रपत्र।
  • टोडिया को बेचान की सूचना का प्रपत्र।
  • पशुपालक का बैंक खाते की पासबुक की फोटो कॉपी।
  • ऊँटनी और उसके बच्चे दोनों की फोटो जिसमें टैंगिग होनी चाहिए। (जो पशुओं के कान में पीला रंग का एक टैग होता हैं ना वो)

महत्वपूर्ण बातें

  • इस स्कीम के तहत दिये जाने वाले लाभ का 60 प्रतिशत हिस्सा भारत सरकार यानि केन्द्र सरकार द्वारा वहन किया जायेगा और बाकि का 40 प्रतिशत राज्य सरकार द्वारा वहन किया जायेगा।
  • उष्ट्र विकास योजना का लाभ 2-10-2016 के बाद जन्मे सभी ऊँटनी के बच्चों (टोडिया) पर देय होगा यानि इससे पहले वाले बच्चों को नहीं दिया जायेगा।
  • पंजीकृत सभी उष्ट्र वंशीय पशुओं को औषधियां, खनिज लवण एवं कृमी नाशक दवा जिसकी भी जरूरत हो वो पशुधन विभाग के द्वारा फ्री में दी जायेगी जो कि पशुधन निशुल्क आरोग्य योजना के तहत होगी।
  • आपको अपने सभी ऊँट व ऊँटनी का पंजीकरण करवाकर उनकी टैगिंग करवाना हैं।
  • स्कीम का लाभ लेने के लिए आपको ऊँटनी का बीमा भी करवाना जरूरी हैं।
  • प्यारे दोस्तों इस स्कीम को केवल चार साल के लिए चालू किया गया हैं हो सकता हैं इसे आगे भी बढा दिया जायें।

उष्ट्र विकास योजना का आवेदन कैसे करें

प्यारे दोस्तों अगर आप भी इस स्कीम का लाभ लेना चाहते हैं तो आपको इसका आवेदन फॉर्म ऑफलाइन ही भरना होगा। इसके लिए आपको अपने नजदीकी पशु चिकित्सालय यानि जानवरों के अस्पताल में जाना होगा। वहां आपको अपने ऊँटनी व उसके बच्चें के बारे में बताना होगा और आपको एक फॉर्म लेना हैं जिसे आपको सही प्रकार से भरना हैं और उसके साथ सभी जरूरी दस्तावेजों (Documents) को लगाकर संयुक्त निदेशक कार्यालय में ही जमा करवाना हैं।

अब सम्बन्धित अधिकारी द्वारा छोटा सा सर्वे किया जायेगा यानि आपका निरीक्षण किया जायेगा और फिर अगर आप पात्र पाये जाते हैं तो आपको लाभ मिलना शुरू हो जायेगा। सभी किस्तें आपको आपके बैंक खाते में दिये जायेगें।

राजस्थान उष्ट्र विकास योजना हेल्पलाइन नम्बर

प्यारे दोस्तों अगर आपको किसी भी प्रकार का डाउट हैं या फिर आपको ज्यादा जानकारी चाहिए तो आप पशुपालन विभाग द्वारा जारी किये गये टोल फ्री नम्बर या नोडल अधिकारी से सम्पर्क कर सकते हों।

  • पशुपालन विभाग Contact Number – 0141-2743574

तो प्यारे दोस्तों इस प्रकार आप राजस्थान उष्ट्र विकास योजना (Rajasthan Ushtra Vikas Yojana) का लाभ ले सकते हाें ज्यादा जानकारी के लिए सम्बन्धित विभाग में सम्पर्क करें या फिर अधिकारिक वेबसाइट पर जायें क्योंकि अन्तिम फैसला सम्बन्धित विभाग का ही होगा।

स्वधार गृह योजना आवेदन
जन सूचना पोर्टल राजस्थान
इंदिरा गांधी शहरी रोजगार गारंटी योजना
सौर कृषि आजीविका योजना राजस्थान
मुख्यमंत्री चिरंजीवी योजना रजिस्ट्रेशन

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *